शहद के फायदे और नुकसान। खांसी और जुकाम में शहद का इस्तेमाल

प्राचीन कल से ही शहद का प्रयोग कई प्रकार की बीमारियों में ओषधि के तौर पर होता रहा है। इसका इस्तेमाल खांसी जुकाम , सर्दी में नार्मल तौर पर किया जाता है। शहद एक गाढा तरल और मीठा तरल पदार्थ होता है। जिसको मधुमखिया तैयार करती है। मधुमखिया इसको तैयार करने के लिए बहुत मेहनत करती है। साथ ही इसको तैयार करने में बहुत टाइम लगता है। इसके लिए फूलो का रस जिसको मकरंद कहा जाता है। को मधुमखी इकठा करती है। इसके बाद अलग अलग चरणों में इसको तैयार किया जाता है । इसके तैयार करने के चरण को आप वीडियो के माध्यम से भी देख सकते है।

असली शहद की पहचान कैसे करे ?

शहद एक गाढा तरल पदार्थ होता है। इसको जंगलो से मधुमखियो के छत्तो से इक्क्ठा किया जाता है। लेकिन आजकल मार्किट में नकली शहद भी बिक रहा है। इसकी पहचान आप कैसे कर सकते है। इसकी जानकारी आपको देते है। अगर शहद असली होगा तो उसको पानी में डालने पर घुलेगा नहीं बल्कि ताली में जाकर इक्क्ठा हो जाता है। और इसकी एक लेयर बन जाती है। लेकिन अगर शहद नकली होगा तो इसकी लेयर नहीं बनेगी और ये पानी में घुल जाता है। इसको चीनी डालकर बनाया जाता है।

शहद

शहद के फायदे

और अधिक पढ़े – : ग्रुप कप्तान वरुण सिंह का निधन | आखिरी उम्मीद भी टूटी

Shahad  के फायदे भी है और नुकसान भी हो सकते है। किसी भी प्रकार की देशी दवाई का प्रयोग करते समय परहेज सबसे महत्वपूर्ण होते है। अगर आपने परहेज नहीं किये तो आपको उल्टा नुकसान हो सकता है। ऐसा ही शहद के प्रयोग से भी होता है। इसके क्या फायदे है उसस्के बारे में जानते है।

सितोपलादि चूर्ण और शहद के फायदे

शहद और सितोपलादि चूर्ण  का इस्तेमाल खांसी और जुकाम में किया जाता है। जो बच्चे छोटे होते है। उनके लिए खासतौर पर इस नुस्खे का प्रयोग होता है। इसको कैसे बनाया जाता है। इसकी जानकारी निचे दी गई है।

सामग्री

  • 100 ग्राम मिश्री
  • 60 ग्राम वंश लोचन
  • 20 ग्राम पिप्पली
  • 10 ग्राम छोटी इलायची
  • 5 ग्राम दाल चीनी

इसके लिए आपको मिश्री को पावर बने ले और फिर इन सभी सामग्री को अलग अलग पीस ले
फिर इन सभी सामग्री को एक बर्तन में मिक्स कर ले।
इसके बाद रोजाना आप सुबह शाम या जुकाम, कफ जैसी बीमारियों में इसका प्रयोग कर सकते है। शहद के साथ।

और अधिक पढ़े – : युपीएससी की परीक्षा कैसे पास करे

इस नुस्खे के फायदे

454

  • ये नुस्खा कफ रोधी होता है। इसमें आपको गले में होने वाले कफ में आराम मिलता है। साथ में ही इसमें एंटी बायटिक गुण होते है जो आपको सभी प्रकार की बीमारियों से दूर रखते है। गले में होने वाली खरांश को दूर करता है।
  • अस्थमा के रोगियों में होने वाली गले की सूजन। इन्फेक्शन, और बलगम की समस्या को कम करता है।
  • ब्रोंकाइटिस में फेफड़ो में होने वाली सूजन को कम करता है। कई बार इस बीमारी में फेफड़ो में बलगम जम जाती है। और इस नुस्खे में इंफ्लेमेटरी गुण होते है जो की फेफड़ो की सूजन को कम करता है। साथ ही आपको साँस लेने की समस्या में आराम देता है।
  • इस नुश्खे में सभी प्रकार के खनिजों का मिश्रण होता है। जिससे रक्त में हीमोग्लोबिन के मात्रा बढ़ती है । साथ में ही इस नुस्खे के नियमित प्रयोग से शरीर में कमजोरी , सुस्ती, थकान , चिड़चिड़ापन की समस्या से निजात मिलती है।
सितोपलादि चूर्ण लेने का तरीका
  • बच्चो के ये चूर्ण आप सर्दी लग जाने पर घी में मिलकर चटा सकते ही है। साथ ही बड़े लोग भी इस चूर्ण का इस्तेमाल कर सकते है। शाम के समय खाना खाने के बाद घी में थोड़ा सा चूर्ण मिक्स करके इसको इस्तेमाल कर सकते है।
  • और अधिक पढ़े – : शतावरी के फायदे, नुकसान और इस्तेमाल की विधि
  • अगर खांसी की समस्या है तो आप इसको शहद के साथ रात को सोते समय ले सकते है। इसको लेने के बाद आपको कुछ भी खाना पीना नहीं है। और इसका जयादा सेवन न करे इससे पेट से सम्बंधित समस्या हो सकती है।

शहद और लहसुन के फायदे

लहसुन और शहद  हर घर की रसोई में मिल जाते है। इसके कई फायदे होते है। एक तो इन दोनों में ही एंटी बायोटिक गुण होते है। और ये शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कोई बढ़ाते है। साथ में एंटी-बैक्‍टीरियल गुणों और फाइबर से युक्त होते है। जिससे पाचन तंत्र सही रहता है। और फंगल इन्फेक्शन नहीं होता है। और खून को भी साफ रखता है।

शहद और लहसुन लेने के तरीके

लहसुन और  शहद का प्रयोग आप नार्मल लाइफ में भी कर सकते है। इसकी दो या तीन कालिया लेकर इनको बारीक़ पीस लीजिये फिर इनको शहद की कुछ बून्द मिलाकर आप रोजाना सुबह खाली पेट इसका इस्तेमाल क्र सकते है। इससे आपको रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। साथ में ही खून भी साफ होता है। और कई प्रकार की बीमारियों से आप दूर रहते है।

शहद और  लहसुन के फायदे

  • लहसुन और शहद   का इस्तेयमाल आपके दिल के लिए काफी फायदेमंद होता है । इसके प्रयोग से ब्लड सर्कुलेशन सही प्रकार से बना रहता है। जिससे ह्रदय से सम्बंधित बीमारिया कम होती है। और आपका शरीर सही रहता है। रक्त की धमनियों में जमा चर्बी को लहसुन और शहद की मदद से कम किया जा सकता है।
  • पेट के रोगो में में लहसुन और शहद के प्रयोग से आराम मिलता है। इससे इन्फेक्शन खत्म हो जाता है। पेट में होने वाले बैक्टीरियल इन्फेक्शन खत्म हो जाते है। जिससे पेट समबन्धित बीमारिया नहीं होती है।
  • लहसुन और शहद में नेचुरल डिटॉक्स की क्षमता होती है। ये हमारी इम्यूनिटी क्षमता को बढ़ाते है। इसको खाने से शरीर की अंदर की सफाई हो जाती है। और बीमारिया कम होती है।
  • और अधिक पढ़े – : सफ़ेद मूसली के फायदे, नुकसान और प्रयोग के तरीके
  • शरीर में कोलेस्ट्रॉल से दिल से सम्बंधित बीमारिया हो जाती है। और लहसुन और शहद के सेवन से कोलेस्ट्रॉल कण्ट्रोल में रहता है।
  • शहद और लहसुन में फास्फोरस होता है। जिससे दन्त सम्बंधित समस्या नहीं होती है। और दन्त भी मजबूत रहते है।
  • इनके सेवन से मोटापे में भी राहत मिलती है।

जायफल और शहद के फायदे

जायफल का इस्तेमाल काफी टाइम से होता आ रहा है। इसका इस्तेमाल खाने के रूप में भी होता है। और दवाई के रूप में भी होता है। जायफल में एंटी इंफलेमेंटरी गुण होते है। इसमें टेरपीनोल पिनिन जैसे तत्व मौजूद होते है। जो शरीर में होने वाली सूजन से रहत दिलाती है। साथ ही गठिया , मधुमेह, और ह्रदय से सम्बंधित बीमारियों में राहत देता है।

  • शहद और जायफल के सेवन से दिल से सम्बंधित रोगो में आराम मिलता है।
  • जायफल मधुमेह के रोग में भी काफी आराम दिलाता है। इसमें मौजूद तत्व खून में चीनी की मात्रा को कण्ट्रोल करते है।
  • जिनको हाई सुगर की प्रॉब्लम है। उनके लिए इसका सेवन फायदेमंद होता है। जायफल और शहद का सेवन करने से शुगर की मात्रा कण्ट्रोल होती है।
  • लेकिन शहद बिलकुल नाम मात्र का मिक्स करना होता है।
  • जायफल एक उत्तेजित करने वाली दवाई के तौर पर भी इस्तेमाल होती है। इसको यौन रोगो में इस्तेमाल किया जाता है। इसके प्रयोग से यौन क्षमता में बढ़ोतरी होती है।

अश्वगंधा और शहद खाने के फायदे

अश्वगंधा के बारे में तो आपने सुना ही होगा । इसका प्रयोग योन रोगो में होता है। और शारीरिक क्षमता को बढाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। ये एक चमत्कारिक औसधी है। और शहद में तो पहले से ही इतने सारे गुण मौजूद है। इन दोनों का मिश्रण इस्तेमाल करने से बहुत सी बीमारियों में लाभ मिलता है।

  • शरीर में होने वाले फोड़े फुंसी में अश्वगंधा और शहद के चूर्ण का इस्तेमाल फायदेमंद होता है।
  • ये खून को भी साफ रखता है साथ ही इसमें एंटीबायोटिक गुण होते है जो शरीर में होने वाले इन्फेक्शन को खत्म करते है।
  • महिला में पीरियड के समय होने वाले अधिक रक्त स्राव को इसके नियमित सेवन से कम किया जा सकता है।
  • अगर शरीर में किसी भी प्रकार की कमजोरी हो रही है
  • तो आप इसका नियमित सेवन कर सकते है। इससे आपकी शारीरिक कमजोरी कुछ ही दिनों में दूर हो जाती है।

आंवला चूर्ण और शहद खाने के फायदे

आंवले का प्रयोग अक्सर पेट से सम्बंधित बीमारियों में किया जाता है। ये पेट को साफ रखने में मदद करता है। इसमें फाइबर की मात्रा बहुत अधिक होती है। जिससे पेट में सभी प्रकार की बीमारिया दूर हो जाती है। साथ में ही इसमें विटामिन सी की मात्रा भी काफी होती है। जो दांतो के लिए काफी अच्छा होता है।

आंवला और शहद  के फायदे

  • बालो की सुंदरता के लिए आप आंवले और शहद का प्रयोग कर सकते है। इसके लिए इन
  • दोनों का मिश्रण आप बालो में कंडीशनर के रूप में कर इस्तेमाल कर सकते है।
  • चेहरे पर होने वाले दाग धब्बे और झाइयां और बढ़ती उम्र का असर शरीर पर कम करने के लिए आप शहद और आवंले के चूर्ण का प्रयोग कर सकते है।
  • पेट से सम्बंधित बीमारी में जैसे कब्ज में आप इसका इस्तेमाल कर सकते है। इसमें फाइबर भरपूर मात्रा में होता है। इससे पाचन तंत्र में सुधार आता है।
  • पेट में बनने वाली गैस और भूख नहीं लगने पर आपको आंवले के मुरर्बे का प्रयोग करना है। इससे आपको ये समस्या दूर हो जाती है ।
  • शरीर में होने वाले किसी भी प्रकार के इन्फेक्शन में इनके प्रयोग से राहत मिलती है।

गुनगुने पानी में Honey के फायदे

गुनगुना पानी पिने से शरीर में कई लाभ होते है। लेकिन अगर इसमें शहद भी मिला दिया जाये तो इसके और भी अधिक फायदे बढ़ जाते है। इसके बारे में डिटेल्स से जानते है।

  • गुनगुने पानी और शहद को मिलकर पिने से शरीर को एनर्जी मिलती है।
  • इससे दिन भर शरीर में ताजगी बनीं रहती है।
  • पेट से सम्बंधित समस्या है तो इसके लिए आपको गुनगुना पानी और शहद कोई मिलकर पीना चाहिए
  • इससे पेट में होने वाली कब्ज , एसिडिटी की समस्या दूर होती है।
  • और पुरे दिन स्फूर्ति बनीं रहती है। खाली पेट इसका सेवन करना चाहिए
  • जिन लोगो को वजन सम्बन्धी परेशानी है।
  • वो लोग रोजाना इसका सेवन कर सकते है।
  • इससे जल्दी ही वजन कम होने लगता है।
  • साथ में एक्सरसाइज भी जरुरी होती है।
  • सुबह उठकर इसका सेवन खाली पेट करने से अधिक फायदा मिलता है।
  • रोजाना शहद और गुनगुना पानी के सेवन से शरीर में दूषित पदार्थ बाहर निकलते है।
  • जिससे शरीर में चमक आती है। और चेहरे पर रौनक आ जाती है ,

दालचीनी और शहद के फायदे इन हिंदी

दालचीनी का प्रयोग रसोई में आमतौर पर होता है। लेकिन शहद के साथ इसके इस्तेमाल से कितने अधिक फायदे होते है इसके बारे में आपको जानकारी देने वाले है ।

  • शहद और दाल चीनी के प्रयोग से हद्रय रोगो से बचा जा सकता है।
  • क्योकि इन दोनों का मिश्रण शरीर ने कोलेस्ट्रॉल के मात्रा को बढ़ने नहीं देता है।
  • जिन लोगो को गठिया रोग को प्रॉब्लम है।
  • उनको दालचीनी और शहद रोज मिलकर खाने से इसमें राहत मिलती है।
  • और साथ ही पुराने घुटनो की बीमारी में भी इसमें आराम मिलता है।
  • पेट में होने वाली एसिडिटी की प्रॉब्लम से छुटकारा पाना है
  • तो आपको रोजाना गर्म पानी के साथ शहद और दिलचिनी का सेवन करना चाहिए।
  • इससे आपका पाचन तंत्र सही रहता है।
  • मानसिक तनाव में आप इसका इस्तेमाल कर सकते है।
  • इससे इसमें राहत मिलती है।
  • अगर आपने जयादा खाना खा लिया है।
  • तो आप दाल चीनी और शहद के चूर्ण को चाट सकते है।
  • इससे पेट में बदहजमी की समस्या नहीं होगी।

एलोवेरा और Honey लगाने के फायदे

एलोवेरा एक प्राकृतिक मॉइश्चुराइज है। जो स्किन को स्मूथ बनता है साथ में ही त्वचा पर होने वाले दाग धब्बे को दूर करता है। और स्किन की अंदर तक सफाई करता है। और एलोवेरा और शहद को मिलकर लगाने से क्या फायदे है उसके बारे में जानते है।

  • चेहरे की सुंदरता बढाने के लिए महिलाये और पुरुष एलोवेरा के जेल का प्रयोग करते है।
  • एलोवेरा का रस और शहद मिलकर चेहरे पर लगाने से चेहरे की रौनक बढ़ती है
  • साथ में ही चेहरे पर होने वाली झाई खत्म हो जाती है। झुरिया खत्म हो जाती है।
  • रोजाना चेहरे पर इसके इस्तेमाल से त्वचा में रूखेपन की शिकायत नहीं रहती है।
  • साथ में ही चेहरे पर होने वाले पिम्पल से भी आपको छुटकारा मिलता है।
  • शरीर की रंगत में सुधार आ जाता है।
  • इसके लिए एलोवेरा और शहद का फेसपैक बना कर आप रख सकते है।
  • और रोजाना इसका इस्तेमाल कर सकते है।

Honey और नींबू चेहरे पर लगाने के फायदे

सर्दियों के टाइम में त्वचा बिलकुल रूखी हो जाती है। क्योकि सर्दी में ठंडी हवाएँ चलती है जिससे स्किन की नमी सुख जाती है। और स्किन ड्राई हो जाती है। इसके लिए आप निम्बू और शहद का प्रयोग कर सकती है। इससे चेहरे के ग्लो फिर से वैसा ही हो जाता है। और ठण्ड में त्वचा भी रूखी नहीं होती है।

  • शहद में एंटीबायोटिक और एंटी इम्फलेमेंटरी गुण होते है।
  • और निम्बू में विटामिन की भरपूर मात्रा होती है।
  • जो चेहरे की स्किन को सवसथय रखने में कारगर है।
  • चेहरे की नमी गायब हो जाने से चेहरे का ग्लो कम हो जाता है।
  • चेहरे बेजान सा नजर आने लगता है।
  • इसके लिए निम्बू और शहद का प्रयोग कर सकते है।
  • इससे त्वचा की नमी बनीं रहती है साथ में ही त्वचा की चमक भी बढ़ती है।
  • जिनकी त्वचा ऑयली है। उनके लिए भी ये नुस्खा कारगर होता है।
  • निम्बू एक्स्ट्रा वसा को निकल देता है।
  • और स्किन में आयल को एकत्रित नहीं होने देता है।
  • इससे त्वचा हाइड्रेट रहती है।
  • और चमक बनीं रहती है।

शहद में पाए जाने वाले वाले पोषक तत्व :

Shahad में कार्बोहाइड्रेट, राइबोफ्लेविन, नायसिन, विटामिन बी-6, विटामिन सी और एमिनो एसिड,फ्रक्टोज, ग्लूकोज, सुक्रोज एवं माल्टोज जैसे तत्व मौजूद होते है। जो शरीर के लिए जरुरी होते है। लेकिन शहद में प्रोटीन , फाइबर और चर्बी बिलकुल नहीं होती है। इसलिए इसके इस्तेमाल करने से काफी अधिक फायदे मिलते है।

Honey के औषधीय गुण

Shahad एक प्रकार का गाढा तरल पदार्थ होता है। इसमें एंटी बैक्टीरियल और एंटी सेप्टिक गुण होते है। जो शरीर में होने वाले किसी भी प्रकार के इन्फेक्शन को खत्म करने का काम करते है। और शरीर में लगने वाली चोट को तुरंत ही भरने में सहायक होते है। इसका प्रयोग बहुत सी बीमारियों में होता है। जैसे की सर्दी लग जाने पर , चोट लग जाने पर , यौन सम्बन्धो में , त्वचा संबधी रोगो में , चेहरे की रौनक बढाने के लिए आदि।

शहद के नुकसान

  • हर चीज के इस्तेमाल का सही तरीका और एक लिमिट होती है।
  • इससे अधिक इसका इस्तेमाल करने पर इसके नुकसान आपको देखने के लिए मिलते है।
    शहद का अधिक मात्रा में इस्तेमाल करने से पेट से सम्बंधित बीमारिया हो सकती है।
  • जैसे की डायरिया आदि , और उलटी की शिकायत भी हो सकती है।
  • जिन लोगो को फूलो से एलेर्जी होती है। वो लोग इसके इस्तेमाल से परहेज रखे।
  • क्योकि शहद भी फूलो के रस से ही बना होता है
  • जो आपको समस्या को बढ़ा सकता है।
  • अगर आपको स्किन पर शहद का इस्तेमाल करना है तो डायरेक्ट नहीं करना होता है।
  • इसके लिए आपको शहद को दूध या किसी और तत्व में मिलकर करना चाहिए
  • क्योकि अगर आपको सीधा इसका इस्तेमाल करेंगे तो हो सकता है।
  • आपको इससे खुजली की समस्या हो सकती है।
किसी भी प्रकार का नुस्खा आजमाने से पहले चिकित्सक से जरूर सलाह कर ले।

Leave a Reply

Your email address will not be published.