Ratan Tata Biography in Hindi | रतन टाटा की जीवनी हिंदी में

 

 

Ratan Tata Biography  : रतन टाटा एक प्रसिद्ध उद्योगपति, निवेशक और भारत में टाटा संस के सेवानिवृत्त अध्यक्ष हैं। रतन टाटा 1991 से 2012 तक मिश्रा टाटा समूह के अध्यक्ष थे। उन्होंने 28 दिसंबर 2012 को अपनी टाटा समूह की अध्यक्षता छोड़ दी, लेकिन रतन टाटा “टाटा समूह” (Tata Group) चैरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष बने रहे।

वह दुनिया की सबसे छोटी कार (world’s smallest car) बनाने के लिए पूरी दुनिया में मशहूर हैं। उन्होंने अपनी बुद्धिमत्ता और क्षमता के बल पर टाटा समूह (Tata Group) को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया। टाटा समूह के अध्यक्ष के रूप में रतन टाटा जी ने देश-विदेश में भी टाटा समूह का नाम रोशन किया है।

Ratan Tata एक जाने-माने उद्योगपति होने के साथ-साथ एक नेक इंसान भी हैं, जो अपनी दरियादिली के लिए भी जाने जाते हैं। वह हमेशा बाढ़ में असहाय, गरीब, मजदूरों और जरूरतमंदों की मदद करते हैं।

साल 2020 में उन्होंने कोरोना वायरस (COVID-19) से संक्रमित लोगों की मदद के लिए भी बड़ी रकम दान में दी है. उनकी गिनती दुनिया के सबसे अमीर लोगों में होती है, तो आइए जानते हैं महान उद्योगपति रतन टाटा के जीवन और सफलता के बारे में महत्वपूर्ण बातें-

रतन टाटा की जीवनी एक नजर में – Ratan Tata Biography at a Glance

पूरा नाम रतन नवल टाटा (Ratan Naval Tata)
जन्म 28 दिसंबर, 1937, सूरत, गुजरात
पिता का नाम नवल टाटा (Naval Tata)
माता का नाम सोनू टाटा, सिमोन टाटा (सौतेली माँ)
शैक्षिक योग्यता बी.एस. स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के साथ आर्किटेक्चर में एडवांस मैनेजमेंट में डिग्री प्रोग्राम
पुरस्कार पद्म भूषण, पद्म विभूषण

रतन टाटा का जन्म, बचपन, प्रारंभिक जीवन और परिवार – Ratan Tata’s Birth, Childhood, Early Life and Family

Ratan Tata Biography : भारत के महान व्यवसायी रतन टाटा का जन्म 28 दिसंबर 1937 को भारत के सूरत शहर में एक बिजनेस हाउस में हुआ था। उनके पिता का नाम Naval Tata और माता का नाम Sonu था। माता-पिता के बीच तलाक के बाद उनकी दादी Nawazbai Tata ने उनका पालन-पोषण किया। रतन टाटा के पिता ने Simon Tata से दूसरी शादी की थी।

Ratan Tata का एक सौतेला भाई भी है जिसका नाम Noel Tata है। रतन टाटा ने अपनी शुरुआती पढ़ाई मुंबई के कैंपियन स्कूल से पूरी की। इसके बाद उन्होंने मुंबई के उसी कैथेड्रल और जॉन स्कूल में स्कूल में रहकर अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की।

1962 में, Ratan Tata यूएसए चले गए जहां उन्होंने न्यूयॉर्क के इथाका (Cornell University, Ithaca) में कॉर्नेल विश्वविद्यालय से स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग के साथ आर्किटेक्चर में बीएस की डिग्री हासिल की, और फिर यूएस में हार्वर्ड बिजनेस स्कूल (Harvard Business School) में प्रबंधन कार्यक्रमों का अध्ययन किया।

इन्हे भी पढ़े :

महाराजा रणजीत सिंह की जीवनी – Biography of Maharaja Ranjit Singh
बिल गेट्स का सम्पूर्ण जीवन परिचय | Bill Gates Complete Biography In Hindi
मुकेश अंबानी का जीवन परिचय | Mukesh Ambani Biography in Hindi

रतन टाटा का शुरुआती करियर – Ratan Tata’s early career

अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद Ratan Tata ने कुछ समय के लिए लॉस एंजिल्स, कैलिफोर्निया में जोन्स और एम्मन्स में काम किया और फिर IMB में नौकरी भी कर ली। वर्ष 1961 में, वह अपने परिवार टाटा समूह का हिस्सा बन गए और इस समूह के साथ अपने करियर की शुरुआत की।

देश के इस सबसे बड़े समूह में शामिल होने के बाद उन्होंने अपने शुरुआती दिनों में Tata Steel के शॉप फ्लोर पर काम किया, इसके साथ ही Tata Steel को विकसित करने के लिए उन्हें इस दौरान जमशेदपुर जाना पड़ा।

बाद में उन्हें टाटा समूह की कई अन्य कंपनियों के साथ जुड़ने का मौका दिया गया।

रतन टाटा का संघर्ष और सफलता – Ratan Tata’s Struggle and Success

Ratan Tata को वर्ष 1971 में National Radio and Electronics Company (Nelco) में प्रभारी निदेशक नियुक्त किया गया था। उस समय इस कंपनी की आर्थिक स्थिति बहुत खराब थी। जिसके बाद रतन टाटा ने अपनी काबिलियत के दम पर न सिर्फ Nelco company को घाटे से उबारा बल्कि हिस्सेदारी में भी 20 फीसदी की बढ़ोतरी की.

हालाँकि, जब Indira Gandhi’s government ने देश में emergenc लगाया

तो आर्थिक मंदी ने बहुत परेशानी पैदा की। इतना ही नहीं साल 1977 में टाटा को union strike का सामना करना पड़ा

जिसके चलते Nelco company को बाद में बंद करना पड़ा।

कुछ महीने बाद Ratan Tata को एक कपड़ा मिल, इम्प्रेस मिल्स की जिम्मेदारी सौंपी गई।

उस दौरान Tata Group की यह कंपनी भी घाटे में चल रही थी।

जिसके बाद Ratan Tata ने इसे संभालने की बहुत कोशिश की

इसके आधुनिकीकरण के लिए निवेश करने का अनुरोध किया

लेकिन निवेश पूरा नहीं हो सका और उस दौरान बाजार में मोटे और मध्यम सूती कपड़े की मांग नहीं थी।

फिर कुछ दिन बाद इसे बंद कर दिया गया। लेकिन Ratan Tata समूह के इस फैसले से संतुष्ट नहीं थे।

कुछ दिनों बाद जेआरडी टाटा ने वर्ष 1981 में रतन टाटा की क्षमता को देखते हुए Tata Industries को अपना उत्तराधिकारी घोषित किया। हालांकि उस समय Ratan Tata का ज्यादा अनुभव न होने के कारण विरोध भी हुआ था।

टाटा इंडिका

हालांकि बाद में साल 1991 में रतन टाटा को टाटा इंडस्ट्रीज

उसकी अन्य कंपनियों के चेयरमैन पद की जिम्मेदारी दी गई।

रतन टाटा की क्षमता और क्षमता ने टाटा समूह में नई ऊंचाइयों को छुआ था।

इतिहास में पहले कभी टाटा समूह इतनी ऊंचाइयों पर नहीं गया था।

उनकी अध्यक्षता में टाटा समूह ने अपनी कई महत्वपूर्ण परियोजनाओं की स्थापना की

और न केवल देश में बल्कि विदेशों में भी उन्होंने टाटा समूह को एक नई पहचान दी।

रतन टाटा के सक्षम नेतृत्व में, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने एक सार्वजनिक निर्गम जारी किया

टाटा मोटर्स को न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध किया गया।

1998 में, टाटा मोटर्स ने पहली पूर्ण भारतीय यात्री कार – टाटा इंडिका – को बाजार में पेश किया।

इसके बाद टाटा टी ने सफलतापूर्वक टेटली, टाटा मोटर्स ‘जगुआर लैंड रोवर’ और टाटा स्टील ‘कोरस ग्रुप’ का अधिग्रहण किया

जिससे भारतीय उद्योग में टाटा समूह की प्रतिष्ठा बढ़ी।

इसके साथ ही रतन टाटा व्यापार जगत में भी एक प्रतिष्ठित व्यक्ति बन गए।

रतन टाटा के नेतृत्व में टाटा समूह दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा इस्पात उत्पादक बन गया।

दुनिया की सबसे सस्ती कार – नैनो कार लॉन्च | World’s cheapest car – Nano Car Launch

Ratan Tata ने दुनिया की सबसे सस्ती कार बनाकर उन लोगों के बारे में भी सोचा

जिनके लिए कार खरीदना किसी बड़े सपने से कम नहीं था।

रतन टाटा ने मात्र 1 लाख रुपये की लागत से दुनिया की सबसे सस्ती कार (world’s cheapest car) नैनो कार बनाई।

साल 2008 में इस कार का उद्घाटन नई दिल्ली में आयोजित ऑटो एक्सपो (Auto Expo) में हुआ था। शुरुआत में टाटा नैनो के तीन मॉडल बाजार में उतारे गए।

आपको बता दें कि भारत में इनके सबसे प्रसिद्ध उत्पादों को Tata Indicaऔर Nano के नाम से जाना जाता है।

इसके बाद, 28 दिसंबर 2012 को Ratan Tata टाटा समूह की सभी कार्यकारी जिम्मेदारियों से सेवानिवृत्त हो गए।

इसके बाद Cyrus Mistry को टाटा ग्रुप के चेयरमैन पद की जिम्मेदारी दी गई। रिटायरमेंट के बाद भी रतन टाटा काम कर रहे हैं।

Xiaomi में निवेश

अभी हाल ही में रतन टाटा ने भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी (India’s largest e-commerce company) Snapdeal और Urban Ladder और जानी-मानी चीनी मोबाइल कंपनी Xiaomi में भी निवेश किया है। वह वर्तमान में टाटा समूह के चैरिटेबल संस्थानों के अध्यक्ष हैं। रतन टाटा / रतन टाटा एक दयालु, उदार और उदार व्यक्ति हैं, जिनके 65 प्रतिशत से अधिक शेयर धर्मार्थ संगठनों (charitable organizations) में निवेश किए गए हैं।

उनके जीवन का मुख्य उद्देश्य भारतीयों के जीवन की गुणवत्ता में वृद्धि के साथ-साथ भारत में मानवता का विकास (develop humanity) करना है। रतन टाटा का मानना ​​है कि परोपकारी लोगों को एक अलग नजरिए से देखा जाना चाहिए। पहले परोपकारी लोग अपने संस्थानों और अस्पतालों (institutions and hospitals) का विकास करते थे जबकि अब उन्हें देश का विकास करने की जरूरत है।

रतन टाटा की उपलब्धियां – Ratan Tata’s achievements – Ratan Tata Biography

Ratan Tata Biography – Ratan Tata भारतीय एड्स कार्यक्रम समिति के सक्रिय कार्यकर्ता हैं। वे भारत में इसे रोकने के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं। Ratan Tata प्रधान मंत्री व्यापार और उद्योग समिति के सदस्य होने के साथ-साथ एशिया के RAND Center की सलाहकार समिति के सदस्य भी हैं। रतन टाटा का नाम हम देश ही नहीं विदेशों में भी देखते हैं।

रतन टाटा Mitsubishi Cooperation’s की अंतर्राष्ट्रीय सलाहकार समिति के सदस्य भी हैं और इसके साथ ही वह अमेरिकन इंटरनेशनल ग्रुप के सदस्य हैं JP Morgan Chase और Buzz Allen Humilto भी शामिल होते हैं। उनकी प्रसिद्धि को देखते हुए हम कह सकते हैं कि Ratan Tata एक जानी-मानी हस्ती हैं।

Ratan Tata को मिला पुरस्कार – Ratan Tata received the award -Ratan Tata Biography

रतन टाटा को उनकी महान उपलब्धियों के लिए कई पुरस्कार और उपाधियों से सम्मानित किया गया.

जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं-

  • येल में मोस्ट सेलेब्रिटी लीडर के लिए रतन टाटा अवार्ड।
  • सिंगापुर की नागरिकता का सम्मान। – Ratan Tata Biography
  • परोपकार का कार्नेगी मेडल देश की प्रगति में टाटा परिवार (Tata Family) के योगदान के लिए दिया गया था।
  • वर्ष 2000 में, रतन टाटा को भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।
  • 2008 में, रतन टाटा को भारत सरकार द्वारा भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार (highest civilian award) पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।
  • 2010 में इंडो-इजरायल चैंबर ऑफ कॉमर्स द्वारा “बिजनेसमैन ऑफ द डिकेड” से सम्मानित किया गया।

Nature of रतन टाटा

Ratan Tata की गिनती भारत के सबसे सफल और प्रसिद्ध व्यवसायियों में होती है। रतन टाटा एक बहुत ही सरल और सरल व्यक्ति हैं, जो दुनिया की झूठी चमक पर विश्वास नहीं करते हैं। वे मुंबई के कोलाबा जिले में किताबों से भरे फ्लैट में सालों से अकेले रह रहे हैं. रतन टाटा उच्च आदर्शों के व्यक्ति हैं।

रतन टाटा का मानना ​​है कि व्यवसाय का अर्थ केवल लाभ कमाना ही नहीं

बल्कि समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझना भी है

और व्यवसाय में सामाजिक मूल्यों का भी समावेश होना चाहिए।

Ratan Tata का हमेशा से मानना ​​था कि “जीवन में आगे बढ़ते रहने के लिए उतार-चढ़ाव बहुत जरूरी है। यहां तक ​​​​कि ईसीजी (ईसीजी) का भी मतलब एक सीधी रेखा है – जिसे मृत माना जाता है।”

रतन टाटा ने हमेशा जीवन में आगे बढ़ना सीखा है। वह कभी भी अपनी परिस्थितियों से नहीं डरते थे

हर कदम पर खुद को सही साबित करते थे। हर किसी को उनके जीवन से प्रेरणा लेने की जरूरत है।

रतन टाटा: उनके नेतृत्व में शीर्ष 10 उपलब्धियां – Ratan Tata: Top 10 achievements under his leadership

1998: Tata Indica, समूह की पहली यात्री कार, इस साल लॉन्च की गई। कार दो साल के भीतर अपने सेगमेंट में number one brand बन गई।

2000: टाटा टी, जो अब Tata Global Beverages है, ने Tetley Group का अधिग्रहण किया, जो दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा tea producer और distributor है। Tetley Group यूके की सबसे बड़ी चाय कंपनी है।

2001: Tata Group और American International Group Inc (एआईजी) के बीच एक संयुक्त उद्यम टाटा एआईजी, बीमा क्षेत्र में टाटा समूह के पुन: प्रवेश को चिह्नित करता है।

1919 में दोराब टाटा द्वारा स्थापित समूह की बीमा कंपनी, New India Assurance का 1956 में राष्ट्रीयकरण किया गया था।

VSNL की स्थापना

2002: समूह ने विदेश संचार निगम लिमिटेड में एक नियंत्रित हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया।

VSNL की स्थापना 1986 में हुई थी

और यह New York Stock Exchange में सूचीबद्ध होने वाला पहला भारतीय पीएसयू था।

2003: Tata Consultancy Services एक अरब डॉलर के राजस्व को पार करने वाली पहली भारतीय सॉफ्टवेयर कंपनी बनी।

कंपनी एक साल बाद सार्वजनिक हुई।

2004: Tata Motors न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध हुई।

कंपनी ने उसी वर्ष Daewoo Motors की भारी वाहन इकाई का भी अधिग्रहण किया।

Anglo-Dutch company Corus का अधिग्रहण

2007: Tata Steel ने यूरोप की दूसरी सबसे बड़ी स्टील निर्माता Anglo-Dutch company Corus का अधिग्रहण किया।

2008: टाटा मोटर्स ने देश की सबसे सस्ती यात्री कार नैनो का अनावरण किया।

शुरुआत में इसे 1 लाख रुपये की कार कहा जाता था।

हालांकि अब इसकी कीमत 1.5-2 लाख रुपये है।

2008: टाटा मोटर्स ने फोर्ड से Jaguar और Land Rover व्यवसायों का अधिग्रहण किया

और एक नई कंपनी जगुआर लैंड रोवर बनाई।

2012: Tata Global Beverages और Starbucks ने एक संयुक्त उद्यम Tata Starbucks Limited बनाया

मुंबई में अपना पहला स्टोर खोला।

Leave a Reply

Your email address will not be published.